खूबसूरत पहाड़ियों में नगीने सा सजा कोडाइकनाल मनमोहक हिल स्टेशन है। नैसर्गिक छटा के मध्य अंतरंग पलों की तलाश में निकले हनीमून कपल्स हों या फिटनेस और नई ताजगी के लिए आए सैलानी, सभी को यहां की नेचुरल ब्यूटी अट्रैक्ट करती है।
कोडाइकनाल समुद्रतल से 2,133 मीटर की ऊंचाई पर बसा है। तमिलनाडु में पश्चिमघाट की पलानी पहाड़ियों पर स्थित यह शहर करीब 21 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला है। खूबसूरत प्राकृतिक छटा के कारण इसे साउथ इंडिया का स्विट्जरलैंड तक कहा जाता है।
यहां की ठंडा मौसम देख विश्वास ही नहीं होता कि दक्षिण भारत में इतना ठंडा मौसम हो सकता है। चिलचिलाती गर्मी से बचने और सुहावने मौसम का मजा लेने के लिए पूरे साल यहां आने वाले लोगों का तांता लगा रहता है। 12 साल में एक बार खिलने वाले कुरुंजी फूल को भी देखने के लिए दूर-दूर से लोग यहां आते हैं। यह फूल सिर्फ कोडाइकनाल में ही देखने को मिलता है। चारों ओर एकाशिया और पियर के पेड़ यहां की खूबसूरती को कई गुना बढ़ा देते हैं।

कोडाइकनाल लेक की तरह ही बेरिजम लेक भी प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर है। यह कोडाइकनाल बस स्टैंड से करीब 20 किलोमीटर दूर है। यहां पर लोग पिकनिक मनाते हैं। इसी लेक से यहां के पेरियाकुलम नगर को पानी की सप्लाई की जाती ह

बेरिजम लेक के पास स्थित यह पार्क करीब 20 एकड़ में बना हुआ है। पार्क में फूलों और कुछ खास किस्म के पेड़ हैं, जो यहां के पहाड़ों पर पाए जाते हैं। 160 साल पुराना यूकेलिप्टस का पेड़ यहां की खासियत है जो करीब 250 फीट उंचा है।
24 हैक्टेयर में फैली ये लेक यहां का सबसे मशहूर घूमने वाली जगह है। स्टार फिश के डिजाइन जैसी इस लेक में शिकारे की सवारी कर कश्मीर की डल लेक झील जैसा मजा ले सकते हैं। लेक के साथ- साथ बनी सड़क पर घुड़सवारी करते हुए यहां की प्राकृतिक छटा देखी जा सकती है।

कोडाइकनाल लेक से 3 किलोमीटर दूर कुरिनजी अंदावार मंदिर है, जिसमें भगवान मुरूगन की पूजा होती है। कुरिनजी का तमिल में मतलब पहाड़ी इलाका होता है और अंदावार का मतलब ईश्वर या भगवान होता है। यहां से पलानी की पहाड़ियों को देखकर काफी सूकून मिलता है।

अन्य स्थल
इसके अलावा भी कई दर्शनीय और मनमोहक स्थल हैं, जिनमें कोकर्स वॉक, डॉलफिन नोज, कोडाइकनाल सोलर ऑब्जर्बेटरी, ग्रीन वैली प्वाइंट, पिलर रॉक्स, बीयर शोला फॉल, टेलिस्कोप हाउस, थालाइयर झरना, डोलमेन सर्कल प्रमुख है।

कहां ठहरें
कोडाइकनाल में बीयर शोला रोड और सेवन रोड के मुख्य बाजारों में कई होटल व लॉज हैं। आप अपनी सहूलियत और बजट को ध्यान में रखते हुए इनमें से कहीं भी ठहर सकते हैं।
कैसे जाएं
कोडाइकनाल का नजदीकी रेलवे स्टेशन व हवाई अड्डा मदुरै (120 किलोमीटर) है। चेन्नई और कोयम्बटूर से मदुरै सड़क, रेल व हवाई मार्ग से जुड़ा है। मदुरै से कोडइकनाल तक बस या टैक्सी में तीन से चार घंटे लगते हैं।
कब जाएं
वैसे तो कोडाइकनाल का मौसम सालभर पर्यटकों को आकर्षित करता है। यहां नवंबर- दिसंबर में भारी बारिश होती है। इसके अलावा किसी भी महीने में जाया जा सकता है।

Advertisement

 
Top