खंडाला
(Khandala)

छुट्टियां मनाने और कुछ शांतिपूर्ण लम्हें बिताने के लिए सबसे सर्वोत्तम जगह है पुणे का "खंडाला" (Khandala) हिल स्टेशन। खंडाला, लोनावला से करीब तीन किलोमीटर दूर, भोर घाटी के अंत में बसा हुआ है। खंडाला का इतिहास अपने उपनिवेश होने की निशानियां आज भी संभाले हुए है। यहाँ स्थित ऐतिहासिक इमारतें मराठों, पेशवाओं और ब्रिटिशों के अधीन रहने की दास्ताँ बयाँ करती हैं।

प्राकृतिक सुंदरता से भरपूर, हरी-भरी पहाड़ियों, घाटियों, झीलों और जलप्रपातों के कारण यह हिल स्टेशन काफी प्रसिद्ध है। सुंदरता और ऐतिहासिक इमारतों के अलावा स्वादिष्ट खाना और यहाँ का प्रसिद्ध "हॉट केक" (Hot Cake) इसे सम्पूर्ण पर्यटन योग्य स्थल बनाते हैं।

यहाँ स्थित ईसा पूर्व बने गुफा मंदिर पर्यटकों को अचंभित कर देते हैं। ट्रैकिंग और फोटोग्राफी का शौक रखने वालों के लिए यह स्थान किसी खजाने से कम नहीं।

खंडाला का इतिहासHistory of Khandala

खंडाला के इतिहास से संबंधित अधिक जानकारी तो उपलब्ध नहीं है लेकिन एक तथ्य के अनुसार ब्रिटिश अधिकारियों से पूर्व इस शहर पर महान मराठा छत्रपति शिवाजी और पेशवाओं ने शासन किया था। 1947 के बाद पुणे के साथ- साथ खंडाला ने भी विकास की राह पर चला है।

खंडाला की सामान्य जानकारीGeneral Information of Khandala
राज्य - महाराष्ट्र
स्थानीय भाषाएँ - मराठी, अंग्रेज़ी, हिन्दी और गुजराती
स्थानीय परिवहन - ऑटो रिक्शा, कैब, बस, रिक्शा और टैक्सी
पहनावा - यहाँ की महिलाएं पैठानी साड़ी और नौवारी साड़ी पहनती हैं। पैठानी साड़ी शुद्ध सिल्क और सुनहरे धागे (जरी) से बनी होती है। यह साड़ी अधिकतर भड़किले (Bright) रंग की होती हैं, जबकि पुणे के स्थानीय पुरुष धोती- कुर्ता और पगड़ी पहनते हैं जिसे फेटा (Pheta) कहते हैं। लेकिन समय के अनुसार यहाँ का पहनावा बदल रहा है पारंपरिक कपड़ो के बजाय युवा जींस टी-शर्ट, शर्ट आदि पहनते हैं।
खान-पान- एक प्रसिद्ध हिल स्टेशन होने के नाते आपको यहाँ कई रेस्टॉरेंट्स और होटल मिलेंगे जहाँ नॉर्थ-इंडियन, साऊथ इंडियन, चाइनीज़, इटैलियन और कॉन्टिनेंटल व्यंजन मिल जाएँगे। इसके अलावा यहाँ का लोकप्रिय व्यंजन हॉट केक खाना बिलकुल न भूलें।

महाराष्ट्र (Maharashtra) राज्य में स्थित खंडाला (Khandala), एक अहम पहाड़ी इलाका (hill Station) है। खंडाला में पर्यटन (Tourism in Khandala) के लिए कई प्रसिद्ध और आकर्षक स्थल (Khandala Tourist Places or Paryatan Sthal Hindi) हैं जो पर्यटकों को आकर्षित करते हैं। इस लेख (Travel Guide) के माध्यम से पर्यटक अपनी खंडाला यात्रा (Yatra) को सुविधाजनक तरीके से प्लान कर सकते हैं।


खंडाला कैसे पहुंचेंHow to Reach Khandala


हवाई अड्डा (By Flight) - खंडाला जाने के लिए निकटतम अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा मुंबई का छत्रपति शिवाजी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा जबकि इसका घरेलू हवाई अड्डा पुणे में स्थित है।
रेलवे स्टेशन (By Train)​ - खंडाला पहुंचने के लिए लोनावला और खंडाला रेलवे स्टेशन सबसे नजदीक है जो महाराष्ट्र के बड़े शहरों मुंबई और पुणे से जुड़ा है। मुंबई और पुणे से चलने वाली लोकल ट्रेनों द्वारा यहाँ पहुंचा जा सकता है। लोनावला और खंडाला रेलवे स्टेशन से आगे की यात्रा के लिए ऑटो रिक्शा और टैक्सी पर्यटकों को आसानी से मिल जाती है।
सड़क मार्ग (By Road)​ - मुंबई- पुणे एक्सप्रेसवे (Expressway) द्वारा खंडाला आसानी से पहुंचा जा सकता है। इसके अलावा महाराष्ट्र से भी खंडाला के लिए नियमित बसे चलती हैं।

खंडाला घूमने का समयBest time to visit Khandala

खंडाला जाने का सबसे बेहतर समय जून से सितम्बर है। इस दौरान यहाँ बारिश का मौसम होता है जिसमें भीगकर खंडाला की प्राकृतिक सुंदरता और भी निखर जाती है।

मेले और उत्सवFairs and festivals
गुड़ी पडवा (Gudi Padwa) - गुड़ी पड़वा महाराष्ट्र में मनाया जाने वाला एक विशेष पर्व है। यह त्यौहार हिन्दू कैलेंडर के अनुसार चैत्र (मार्च- अप्रैल) महीने के पहले दिन मनाया जाता है। लोग इस दिन को नव वर्ष के रूप में मनाते हैं। इस दिन लोग जल्दी उठकर अपने घर की साफ सफाई करते हैं और घर को रंगोली से सजाते हैं। आम के पत्तों का बंदनवार बनाकर घर के दरवाजे पर सजाया जाता है। इस पर्व में लोग खासतोर पर गुड़ और इमली को मिलाकर पकाया गया पकवान ही खाते हैं।
एकविरा देवी फेस्टिवल (Ekvira Devi Festival ) - यह त्यौहार एकविरा देवी के मंदिर में मछुआरों द्वारा मनाया जाता है। यह एक मुख्य त्यौहार है जो अक्टूबर माह की नवरात्रि में मनाया जाता है। इस दौरान यहाँ के निवासी कोली नृत्य और लोक संगीत समारोह के का प्रदर्शन करते हैं।

Advertisement

 
Top